मां का अंतिम संस्कार वीडियो कॉलिंग से देखती रही बेटी

बुजुर्ग महिला के मृत्यु का समाचार मिलते ही बेटी ने फोन पर कम समय का हवाला देते हुए गांव के लोगों से कहा कि वे लोग ही उनकी मां का अंतिम संस्कार कर दें

News18Hindi
Updated: August 27, 2018, 3:26 PM IST
मां का अंतिम संस्कार वीडियो कॉलिंग से देखती रही बेटी
अब वीडियो कॉलिंग के जरिए अंतिम संस्कार होने लगा है
News18Hindi
Updated: August 27, 2018, 3:26 PM IST
हिंदू धर्म में मृत्यु के बाद बेटे या किसी अपने के द्वारा चिता को मुखाग्नि देने का विधान है. वर्षों से लोग इस परंपरा का पालन भी करते चले आ रहे हैं. पुत्र-पुत्री या नजदीकी रिश्तेदार चाहे जितना भी दूर रहें, अपने की मृत्यु हो जाने पर तुरंत उस जगह पर पहुंचते हैं और विधि-विधान से अंतिम संस्कार संपन्न कराते हैं, लेकिन अब वीडियो कॉलिंग के जरिए अंतिम संस्कार होने लगा है.

यह अजीबो-गरीब मामला महाराष्ट्र के पालघर से सामने आया है. जहां एक बेटी ने अपनी मां का अंतिम संस्कार वीडियो कॉलिंग के जरिये किया. इतना ही नहीं, चिता के जल जाने के बाद बेटी ने अस्थियों को मंगवाने के लिए कुरियर सेवा की सहायता ली.

खबरों के मुताबिक पालघर के मनोर में 70 साल की धीरज पटेल अपनी 65 साल की पत्नी निरीबाई पटेल के साथ अकेले रहा करते थे. इनकी इकलौती बेटी शादी के बाद अपने ससुराल गुजरात के अहमदाबाद में रहती हैं. बीते मंगलवार को उनकी मां निरीबाई का देहांत हो गया.

उस वक्त निरीबाई के पति धीरज पटेल घर में नहीं थे, वह किसी आवश्ययक काम से बाहर गए हुए थे. जिसके बाद गांव वालों ने फोन के जरिए बुजुर्ग महिला के मृत्यु का समाचार उनकी बेटी को दी. बेटी ने फोन पर कम समय का हवाला देते हुए गांव पहुंचने में असमर्थता जताई और गांव के लोगों से कहा कि वे लोग ही मां का अंतिम संस्कार कर दें, वह मां के अंतिम संस्कार में वीडियो कॉल के जरिये मौजूद रहेगी.

इसके बाद गांव वालों ने बेटी के आग्रह को देखते हुए मनोर स्थित हिंदू श्मशान भूमि पर उनकी मां अंतिम संस्कार किया और वीडियो कॉलिंग से उसे पूरी अंतिम क्रिया दिखाई.

गौरतलब है कि हिंदू धर्म के अनुसार अंतिम संस्कार 16 संस्कारों में अंतिम संस्कार होता है. अंतिम संस्कार के दौरान वेद मंत्रों का उच्चारण किया जाता है. आम तौर पर हिंदू धर्म में वैरागी, सन्यासी और महात्माओं का मृत्यु के बाद दाह संस्कार किया जाता है. उन्हें भूमि या जल समाधि विधान है लेकिन अपवाद स्वरूप कहीं-कहीं उनका दाह संस्कार किया जाता है.

माना जाता है कि हिंदुओं में वैदिक रीति के अनुसार अंतिम संस्कार कराने से मृतक की आत्मा को शांति मिलती है. वहीं वीडियो कॉलिंग के जरिये अंतिम संस्कार कराने के मुद्दे पर स्थानीय लोगों में बहस छिड़ी है. कुछ लोग इसे हिंदू धर्म की मान्यताओं के खिलाफ बता रहे हैं वहीं कुछ लोग इसे समय के अभाव और अपने के दूर होने में तकनीक के सहारे की जा रही संस्कर पद्धति को सही भी ठहरा रहे हैं.
IBN7 खबर हुआ News18 इंडिया - Hindi News से जुड़े लगातार अपडेट हासिल करे और पढ़े Delhi News in Hindi.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...