बड़े PF घोटाले का खुलासा! कंपनी ने ऐसे लगाई कर्मचारियों को करोड़ों रुपये की चपत

आप प्रोविडेंट फंड में पैसा डालते हैं ये सोचकर की किसी इमरजेंसी में या रिटायरमेंट के बाद आपको किसी के आगे हाथ नहीं फैलाना पड़ेगा. जमा की जा रही रकम पर आपको ब्याज भी मिलेगा.

News18Hindi
Updated: August 28, 2018, 11:52 AM IST
News18Hindi
Updated: August 28, 2018, 11:52 AM IST
अभिषेक हैदराबाद की एमडब्ल्यू हाईटेक प्रोजेक्टस इंडिया प्राईवेट लिमिटेड में एचआर हेड हैं. ज्वाइन करने के 2 हफ्ते बाद ही अभिषेक को कंपनी में चल रहे बड़े पीएफ घोटाले के बारे में पता चल गया था. अभिषेक के मुताबिक जब उन्होंने मैनेजमेंट को इसकी जानकारी दी तो उन्हे चुप रहने को कहा गया और ना मानने पर डराया धमकाया भी गया. लेकिन अभिषेक ने बिना डरे कंपनी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया. प्रोविंडेंट फंड कमिश्नर, लेबर मिनिस्ट्री, पीएमओ और इनकम टैक्स को इसकी जानकारी दी और उसके बाद जो जानकारी सामने आई वो होश उड़ा देने वाली थी. दरअसल कंपनी ने पिछले 4 साल के दौरान अपने सैकड़ों कर्मचारियों का करीब 130 करोड़ रुपये पीएफ जमा ही नहीं कराया. ईपीएफओ के जांच आयोग की अंतरिम रिपोर्ट में ये बात निकलकर सामने आई है.

Post Office की ये स्कीम बैंक के मुकाबले देगी डबल रि‍टर्न और मिलेगी टैक्‍स में छूट



कर्मचारियों को लगा करोड़ों का चूना- रिपोर्ट के मुताबिक कंपनी ने वित्तीय वर्ष 2012-13 से 2015-16 के बीच कर्मचारियों की सैलरी से करीब 262 करोड़ रुपये काटे लेकिन जमा केवल 132 करोड़ ही कराए. बाकी पैसों का क्या हुआ उसका कोई रिकॉर्ड नहीं है. जांच आयोग को कंपनी के खातों में भी काफी अनियमितताएं मिलीं. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने करीब 116 करोड़ का टैक्स चोरी का मामला भी पकड़ा है. आपको बता दें कि हर नौकरीपेशा के लिए ये जानना जरूरी है कि वो अपने भविष्य की जमापूंजी को लेकर सतर्क रहे और साथ ही आवाज़ भी उठाए ताकि कोई भी कंपनी आपकी जमापूंजी के साथ हेराफेरी न कर सके.

पीएफ चोरी का ये कोई पहला मामला नहीं है सरकार के मुताबिक वित्त वर्ष 2017 में कंपनियों ने पीएफ के 4112 करोड़ रुपये जमा नहीं कराए. लोकसभा में जवाब देते हुए श्रम एवं रोजगार मंत्री संतोष गंगवार ने सिलसिलेवार आंकड़े रखे जो बताता है कि पीएफ का पैसा जमा ना कराने का ट्रेंड बढ़ता ही जा रहा है.

पोस्ट ऑफिस स्कीम: 150 रुपये सेविंग कर कमा सकते हैं 25 लाख रुपये

आंकड़ों के मुताबिक वित्त वर्ष 2013 में पीएफ के 2272.05 करोड़ रुपये जमा नहीं कराए गए. वहीं 2014 में 2515.25 करोड़, 2015 में 2,920.62 करोड़, 2016 में 3465.38 करोड़ और वित्त वर्ष 2017 में 4111.82 करोड़ रुपये कंपनियों ने पीएफ के तौर पर काटे लेकिन जमा नहीं कराए. अब सरकार इन मामलों में कार्रवाई की तैयारी कर रही है.
Loading...
80% डिस्काउंट पर मिल रहे हैं यहां कपड़ें, जल्द उठाएं फायदा

आपके पैसे को सुरक्षित रखने के लिए SBI देता है ये सुविधाएं, फटाफट जानें
IBN7 खबर हुआ News18 इंडिया - Hindi News से जुड़े लगातार अपडेट हासिल करे और पढ़े Delhi News in Hindi.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...