IPL सट्टे में बुरी तरह फंस गया तो लूट की साज़िश रची और बन बैठा कातिल

उत्तर पश्चिम दिल्ली में हुए एक उद्योगपति के कत्ल का राज़फाश हुआ तो पता यह चला कि उसके पिछले ड्राइवर ने पूरी साज़िश रची थी. इस ड्राइवर ने अपने दोस्तों के साथ इसलिए इस साज़िश को अंजाम दिया था क्योंकि वह बड़ी रकम का तलबगार था.

Bhavesh Saxena | News18Hindi
Updated: August 21, 2018, 7:35 PM IST
IPL सट्टे में बुरी तरह फंस गया तो लूट की साज़िश रची और बन बैठा कातिल
सांकेतिक चित्र
Bhavesh Saxena
Bhavesh Saxena | News18Hindi
Updated: August 21, 2018, 7:35 PM IST
'हैलो, क्या सोचा? आखिरी बार कह रहा हूं कि हमें पैसे दे दो वरना अंजाम अच्छा नहीं होगा..' राजेश को पिछले कुछ हफ्तों से फोन पर ऐसी धमकियां मिल रही थीं और जबरन वसूली की मांग की जा रही थी लेकिन राजेश इसे संजीदगी से नहीं ले रहा था. इस बार भी राजेश ने इस फोन को इग्नोर कर दिया लेकिन कुछ ही दिनों बाद राजेश को जब गोली लगी तब उसे एहसास हुआ कि अगर वह इन धमकियों को सीरियसली लेता तो उसकी जान बच सकती थी.

यह कहानी है पारस की जो एक साल पहले तक ड्राइवर हुआ करता था. 38 साल के पारस ने ड्राइवर बनने से पहले कई तरह के काम किए थे और फिर बतौर ड्राइवर काम करते हुए भी दूसरे कामों में लगा रहता था. दौलत कमाना उसका शौक था और उसे जो रास्ता दिखाई देता, वह उस पर चल पड़ता. जुए और सट्टे की लत का शिकार वह इसी वजह से हुआ था और जब उसे लगा कि पैसा कमाने का यह रास्ता बड़ा दिलचस्प है तो वह शिद्दत से इसमें जुड़ गया.

हरियाणा के झज्जर का रहने वाला पारस अपने दो दोस्तों शिवम और नीरज के साथ मिलकर क्रिकेट के सट्टे में काफी पैसे लगा चुका था. पहले पहल पारस को इस सट्टेबाज़ी में काफी मुनाफा हुआ था इसलिए वह इस धंधे में खिंचता चला गया. पैसा कमाने का यह शॉर्टकट पारस को जल्द ही अंधेरे में ले गया क्योंकि उसे नुकसान होना शुरू हो गया और अब उसने सट्टा खेलने के लिए कर्ज़ लेना शुरू किया.

एक कर्ज़ चुकाने के लिए दूसरा और दूसरा चुकाने के लिए तीसरा... इसी तरह पारस पिछले एक साल में कई लोगों का कर्ज़दार हो चुका था. कर्ज़दारों की धमकियां उसे मिलने लगी थीं. अब पारस को समझ में आ रहा था कि आईपीएल के सट्टे में कितने बड़े और खतरनाक किस्म के लोगों के बीच वह फंस गया था. उसे हर वक्त अपनी जान की फिक्र लगी रहती थी. कुछेक बार उसके साथ मारपीट भी हो चुकी थी और उसे कर्ज़ चुकाने के लिए बड़ी रकम का इंतज़ाम करना ही था.

murder, murder case, delhi, haryana, extortion, कत्ल, हत्याकांड, दिल्ली, हरियाणा, रंगदारी

सटोरियों के बीच कई तरह की बातें और गुंंडागर्दी के किस्से सुनने वाले पारस को बहुत देर नहीं लगी, एक और गलत रास्ता चुनने में. एक बार अगर गलत राह पकड़ ली तो फिर उससे कोई सही राह खुले, ऐसा कम ही होता है. पारस ने शिवम को एक बार बताया था कि वह पहले जिस आदमी के ड्राइवर के तौर पर काम करता था, वह बहुत अमीर था. पारस अपनी उलझनों में एक दिन नीरज और शिवम से बात कर रहा था तभी बातों बातों में यह आइडिया आया कि उसका पुराना मालिक पैसे का इंतज़ाम कर सकता है.

पेशेवर रंगदार तो नहीं था पारस लेकिन उसने इन दोनों दोस्तों के साथ मिलकर पुराने मालिक से रंगदारी वसूलने का मन बना लिया था. इसी साल मई-जून के महीने में पारस ने राजेश को पहली बार फोन करके धमकाया -
Loading...
पारस : हैलो, हमें दस लाख रुपये चाहिए. अगर अपनी जान प्यारी है तो दो दिन में इंतज़ाम करो..
राजेश : कौन बोल रहा है?
पारस : सर मैं...

पारस ने फौरन फोन काट दिया. पहली बार रंगदारी मांग रहा था इसलिए पारस हड़बड़ा गया था. अक्लमंदी की बात बस यह थी कि पारस ने पब्लिक फोन से बात की थी, अपने नंबर से नहीं. अगले दिन फिर राजेश को फोन कर पारस ने धमकाया. इस बार उसने पूरी प्रैक्टिस करने के बाद फोन किया था लेकिन राजेश ने उसे उल्टे डांटते हुए कहा कि अगली बार ऐसी हरकत की तो पुलिस के हवाले करवा देगा.

पारस और उसके दोस्तों ने हर तरकीब अपनाई. कभी राजेश पर हमले की धमकी दी तो कभी उसके परिवार पर, लेकिन राजेश नहीं माना और उसने इस तरह बात की जैसे उसके पास रोज़ इस तरह के फोन आते हैं. इधर, पारस अपने कर्ज़दारों से परेशान था ही और उधर, राजेश उसकी बात को सीरियसली नहीं ले रहा था. पारस ने अपने दोस्तों की मदद से एक कार चुराई और एक पिस्तौल का इंतज़ाम किया. उसने सोचा कि राजेश से रकम निकलवाने के लिए उसे ठीक से डराना ही पड़ेगा.


राजेश को धरने के लिए पहले इन लोगों ने एक दो दिन उस पर नज़र रखी. राजेश की फैक्ट्री सोनीपत में थी और वह अपने परिवार के साथ पश्चिम विहार में रहता था. अपनी फैक्ट्री तो राजेश कभी कभी जाता था लेकिन अपने पार्टनरों के यहां वह रोज़ जाता था. जहांगीरपुरी के पास राजस्थानी उद्योग नगर से होकर वह एक पार्टनर के यहां से अपने घर लौटता था. यह इलाका बहुत चहल पहल वाला नहीं था और तीनों ने इसी रास्ते पर राजेश को डराने का प्लैन बनाया.

पिछली 16 जुलाई को पारस अपने दोनों दोस्तों शिवम और नीरज के साथ एक कार में राजस्थानी उद्योग नगर के पास राजेश के वहां से गुज़रने का इंतज़ार कर रहा था. जैसे ही राजेश अपनी कार से वहां पहुंचा, पारस ने कार को रुकवाया. पारस और उसके दोस्तों ने अपना मुंह किसी कपड़े से ढांक रखा था. राजेश ने कार रोककर इन लोगों से मकसद पूछा तो पारस ने पिस्तौल दिखाकर उसे कार से उतरकर कुछ दूर साइड में चलने के लिए कहा.

murder, murder case, delhi, haryana, extortion, कत्ल, हत्याकांड, दिल्ली, हरियाणा, रंगदारी

पिस्तौल देखकर कुछ घबरा चुके राजेश ने बात मान ली और वह साइड में गया. यहां इन लोगों ने उसे डराया और वसूली करने की कोशिश की लेकिन राजेश अब भी नहीं माना और उसने कहा कि वह इन लोगों को गिरफ्तार करवा देगा. पहले भी राजेश पुलिस को बताने की बात कह चुका था और अब यही बात सुनकर पारस और उसके दोस्तों को डर भी लगा कि अगर राजेश ने वाकई किसी को बता दिया तो ये लोग मुसीबत में फंस सकते हैं.

तीनों आपस में बात कर रहे थे और किसी नतीजे पर पहुंचने की कोशिश में थे. पारस कह रहा था कि जाने देते हैं, लेकिन बाकी दोनों कह रहे थे कि इसे छोड़ना बेवकूफी होगी. इसी दौरान राजेश ने नीरज को धक्का देकर वहां से भागने की कोशिश की लेकिन तीनों ने मिलकर उसे पकड़ा और पारस ने राजेश पर गोली दाग दी. राजेश को लहूलुहान होकर ज़मीन पर गिरते देख तीनों वहां से भाग खड़े हुए. तकरीबन दो हफ्तों तक पारस और उसके साथी पुलिस से बचने में कामयाब रहे लेकिन 29 जुलाई को पुलिस इन तक पहुंच गई.

पुलिस की तफ्तीश और पूछताछ में पारस और उसके दोस्तों ने कहानी सुनाते हुए कहा कि अपना कर्ज़ चुकाने के लिए वो राजेश को धमका रहे थे लेकिन राजेश से रकम न मिलने और उन्हें यह डर होने के कारण कि राजेश उन्हें पकड़वा देगा, उन्होंने राजेश का कत्ल कर दिया.

ये भी पढ़ें

#LoveSexaurDhokha: घर के भीतर ही छुपा था लड़के के कैरेक्टर का राज़
बेवफा निकली बंदूक की गोली, कंधे के बजाय छाती में धंसकर ले गई जान
#LoveSexaurDhokha: शादी से ऐन पहले रंगे हाथों पकड़ी गई फरेबी लड़की
#LoveSexaurDhokha: दूसरी शादी क्यों करना चाहता था वो?
#LoveSexaurDhokha: 'उसने सेक्स के लिए मना किया तो अरेस्ट करवा दिया'

PHOTO GALLERY : वॉट्सएप पर 'GAY' कहने से हुए विवाद का अंजाम हुआ कत्ल
IBN7 खबर हुआ News18 इंडिया - Hindi News से जुड़े लगातार अपडेट हासिल करे और पढ़े Delhi News in Hindi.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...