भारत में फैल रहा मोमो चैलेंज का जाल, बंगाल ने जारी किया अलर्ट

ऑफिशियल का कहना है कि अभी तक ज़्यादातर शिकायत जलपाईगुड़ी, कुर्सिओंग और पश्चिम मेदिनापुर से आ रही थी, और ये कोलकाता का पहला मामला सामने आया है

News18Hindi
Updated: August 26, 2018, 5:13 PM IST
भारत में फैल रहा मोमो चैलेंज का जाल, बंगाल ने जारी किया अलर्ट
ऑफिशियल का कहना है कि अभी तक ज़्यादातर शिकायत जलपाईगुड़ी, कुर्सिओंग और पश्चिम मेदिनापुर से आ रही थी, और ये कोलकाता का पहला मामला सामने आया है
News18Hindi
Updated: August 26, 2018, 5:13 PM IST
साल 2016 में ब्लू व्हेल गेम ने पूरी दुनिया में सनसनी मचा दी थी और इसी तरह जानलेवा मोमो चैलेंज का जाल धीरे-धीरे भारत में फैल रहा है. हाल ही में पश्चिम बंगाल से आई दो सुसाइड रिपोर्ट के बाद राज्य प्रशासन ने कड़ी सावधानी बरतना शुरू कर दिया है.

आधिकारिक के मुताबिक, जिलों के पुलिस स्टेशन को निर्देश भेजने के अलावा राज्य प्रशासन ने शिक्षा संस्थानों को छात्राओं की व्यवहार पर नज़र रखने के लिए कहा है. उन्होंने कहा कि ये धीरे-धीरे बढ़ रहा है, ब्लू व्हेल गेम के बाद अब हमें इस जानलेवा Momo गेम चैलेंज का सामना करना पड़ रहा है. इस खतरनाक गेम की लिंक ज़्यादातर व्हॉट्सऐप के ज़रिए भेजी जा रही है.

मोमो चैलेंज ने दार्जिलिंग जिले के कुर्सिओंग में 20 अगस्त को मनीश सर्की (18) और अदिती गोयल (26) की अगले दिन जान ले ली. पुलिस की कार्रवाई पर ये बात सामने आई की इन दोनों को ऑनलाइन गेम की लत लग चुकी थी, जिससे दोनों ने ये कदम उठाया.

जानकारी के मुताबिक, 21 अगस्त को जलपाईगुड़ी की रहने वाली कबीता राय को ये गेम खेलने का इन्वाइट आया, जिसके बाद उन्होंने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई. इसके अलावा कोलकाता में 8 साल के बच्चे की मां राजाश्री उपाध्याय को भी इस जानलेवा गेम का इन्वाइट आया, जिसके बाद उन्होंने कोलकाता पुलिस के साइबर सेल में शिकायत दर्ज करा दिया.

ऑफिशियल का कहना है कि अभी तक ज़्यादातर शिकायत जलपाईगुड़ी, कुर्सिओंग और पश्चिम मेदिनापुर से आ रही थी, और ये कोलकाता का पहला मामला सामने आया है. इस पर साइबर एक्सपर्ट संदीप सेनगुप्ता का लोगों से कहना है कि गेल खेलने के लिए कोई भी इन्विटेशन पर क्लिक ना करें और ना ही किसी अंजान लिंक को खोलें. साथ ही अगर किसी को भी ये लिंक आता है तो उसके बारे में फौरन पुलिस स्टेशन में बताया जाए.

क्या है Momo WhatsApp चैलेंज और कैसे हुई इसकी शुरुआत?
Loading...
रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस सुसाइड चैलेंज की शुरुआत Facebook पर हुई. बाद में WhatsApp के जरिए इसे तेजी से फैलाया गया. यह चैलेंज एक लड़की के अजीब और डरावने चेहरे से जुड़ा है. यह इमेज जापान के आर्टिस्ट मिडोरी हायासी ने बनाई है. हालांकि, उनका इस गेम से कोई लेना-देना नहीं है. यह चैलेंज खतरों से भरा है.

चैलेंज पूरा न करने पर मोमो (एक फिक्शनल कैरेक्टर) डांटती है और कड़ी सजा देने की धमकी भी देती है. इसके चलते यूजर डर जाता है और मोमो के निर्देश मानने के लिए मजूबर हो जाता है. मोमो की बात में आकर यूजर डिप्रेशन का भी शिकार हो जाता है. इसके अधिकतर यूजर्स नौजवान और बच्चे हैं.

मोमो चैलेंग गेम के जरिए अपराधी बच्चों और युवाओं को अपनी गिरफ्त में ले रहे हैं. निजी जानकारी चुराने के बाद वह परिजनों को धमकी देता है. इसका इस्तेमाल वह फिरौती मांगने के लिए भी करते हैं. इस गेम के जरिए बच्चों को डिप्रेशन कर वह आत्महत्या की ओर ढकेलते हैं..
IBN7 खबर हुआ News18 इंडिया - Hindi News से जुड़े लगातार अपडेट हासिल करे और पढ़े Delhi News in Hindi.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...