होम » वीडियो

बहनें सरहद पर तैनात जवानों के लिए भेज रही हैं 5000 राखियां

OMG12:50 PM IST Aug 24, 2018

रक्षा बंधन आने वाला है. ऐसे में सरहद पर तैनात जाबांज सिपाही भी अपने राखी का इंतजार कर रहे हैं. इसी बात को ध्यान में रखते हुए हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले में कुछ महिलाएं इन जवानों के लिए राखी बना रही है. ये महिलाए 5000 जवानों के लिए 5000 राखियां बना रही है और इन्हें जल्द ही सीमा पर तैनात अपने भाईयों को भेज देंगी. इसके लिए ये महिलाएं दिन-रात एक किये हुए हैं ताकि समय पर देश की रक्षा में लगे 5000 जवानों की कलाई पर भरोसे की डोर बंध सके. हिमाचल प्रदेश की डिफेंस वूमेन वेलफेयर एसोसिएशन की सदस्यों ने केसरिया, सफेद और हरे रंग वाली इन राखियों को स्पेशल फौजी भाई राखी का नाम दिया है. गौरतलब है कि पिछले 4 सालों से मंडी से 5000 जवानों को स्पेशल राखी भेजी जाती है. इस मामले में डिफेंस वूमेन वेलफेयर एसोसिएशन की सदस्य बनाती है कि 5000 राखियों को बनाने में लगभग एक महीने का वक्त लगता है. वहीं राखी बनाने वाली महिलाओं का कहना है जो जवान चौबीसों घंटे देश की रक्षा में लगे रहते हैं, उनका मनोबल बढ़ाने के लिए वो सरहद पर राखी भेजती हैं.

news18 hindi

रक्षा बंधन आने वाला है. ऐसे में सरहद पर तैनात जाबांज सिपाही भी अपने राखी का इंतजार कर रहे हैं. इसी बात को ध्यान में रखते हुए हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले में कुछ महिलाएं इन जवानों के लिए राखी बना रही है. ये महिलाए 5000 जवानों के लिए 5000 राखियां बना रही है और इन्हें जल्द ही सीमा पर तैनात अपने भाईयों को भेज देंगी. इसके लिए ये महिलाएं दिन-रात एक किये हुए हैं ताकि समय पर देश की रक्षा में लगे 5000 जवानों की कलाई पर भरोसे की डोर बंध सके. हिमाचल प्रदेश की डिफेंस वूमेन वेलफेयर एसोसिएशन की सदस्यों ने केसरिया, सफेद और हरे रंग वाली इन राखियों को स्पेशल फौजी भाई राखी का नाम दिया है. गौरतलब है कि पिछले 4 सालों से मंडी से 5000 जवानों को स्पेशल राखी भेजी जाती है. इस मामले में डिफेंस वूमेन वेलफेयर एसोसिएशन की सदस्य बनाती है कि 5000 राखियों को बनाने में लगभग एक महीने का वक्त लगता है. वहीं राखी बनाने वाली महिलाओं का कहना है जो जवान चौबीसों घंटे देश की रक्षा में लगे रहते हैं, उनका मनोबल बढ़ाने के लिए वो सरहद पर राखी भेजती हैं.

Latest Live TV